Wednesday, July 18, 2007

चिट्ठाकारी का सर्वेक्षण्

हिन्दी में चिट्ठाकार भी बढते जा रहे हैं और हिन्दी चिट्ठों के पाठक भी.ऐसे में यह जानकारी रुचि का विषय हो सकती है कि इन चिट्ठों के लेखक व पाठक क्या सोचते हैं.
किन किन विषयों मे उनकी रुचि है ,क्या वे पढना चाहते हैं आदि आदि.
चूंकि में सांख्यिकी व बाज़ार अनुसन्धान विषय पढता पढाता हूं ,मैने सोचा कि क्यों न इस विषय पर एक सर्वेक्षण आयोजित किया जाये.
एक मुफ्त उपलब्ध औज़ार की मदद से एक प्रश्नावली तैयार की है जिसमें सिर्फ आठ प्रश्न हैं.
आप सभी चिट्ठाकारों से अनुरोध है कि अधिक से अधिक संख्या में इस सर्वेक्षण में भाग लें तथा अन्य मित्रों / पाठकों को भी इस सर्वेक्षण में भाग लेने हेतु प्रेरित करें.

नियमित सर्वेक्षण्

इस चिट्ठे पर प्रत्येक पक्ष ( पखवाडे) एक नये विषय पर सर्वेक्षण आयोजित किया जायेगा. सर्वेक्षण् के विषयों पर आप सभी की राय भी ली जायेगी.वे सभी विषय जो हमें कही ना कहीं झकझोरते हैं, जिन पर समाज में राय बंटी हुई होती है, उन्हे इस प्रकार के सर्वेक्षणों हेतु चुना जायेगा,तथा विश्लेषण के बाद नतीजों को आप सब के समक्ष रखा जायेगा,ऐसी योजना है.
यह सब आप लोगों की भागीदारी पर ही निर्भर होगा,अत: आप सभी को इस पहले सर्वेक्षण् से ही शुरुआत करनी होगी.

दाहिनी ओर मेरी फोटो के पास बने लोगो पर जा कर क्लिक करें ,एक questionnaire आपके सामने खुल जायेगा. प्रश्नों का उत्तर दें और बस. (survey) सर्वेक्षण् के परिणाम की प्रतीक्षा करें.
यह सर्वेक्षण् पूरे सप्ताह भर के लिये खुला है. यानी आप आज से 25 जुलाई तक कभी भी वोट कर सकते हैं.
25 जुलाई के बाद एक नया विषय आप सभी के समक्ष होगा. फ़िर ये क्रम निरंतर जारी रहेगा.

8 comments:

Sanjay Tiwari said...

फार्म खोजा लेकिन मिला नहीं.

Sanjay Tiwari said...

मिल गया और मतदान भी कर आये. अब सरकार बनने की सूचना का इंतजार है.

Udan Tashtari said...

फार्म भी मिल गया. भर भी आये. रोचक भी लगा. और कहना चाह रहे हैं कि लगे रहिये. एक दिशा मिलेगी इन सर्वेक्षणों के आंकड़ों से. साधुवाद.

विष्णु बैरागी said...

आपकी इस कोशिश से ब्‍लाग विधा बेहतर होगी । इसकी गुणवत्‍ता सुधरेगी । ऐसी कोशिशें के परिणाम तत्‍काल कभी नहीं मिलते । आपने इस दिशा में केवल सोचा ही नहीं, कर दिखाया भी - अभिनन्‍दन । हम सबकी ओर से आभार ।

हॉं, मैं ने अपना मत दे दिया है ।

अरुण said...

टिपिया दिया जी,ओ ओह मतलब मत दान कर दिया जी.अच्छा कार्य है जी साधुवाद है जी..:)

शब्द-सृष्टी said...

अप्रतिम अरविंद भाई...
आपका ये सर्वे बहुत रोचक है...आसान और वृहद भी.क्या ये ज़रूरी नहीं था कि इसमें एक फ़ीड बैक यह भी होता कि किसने सबमिट किया है ये सर्वेक्षण यानी प्रतिभागियों के नाम ?
इति शुभम.

शैलेश भारतवासी said...

ञह आपने अच्छा किया अरविन्द जी।

अरविन्द चतुर्वेदी Arvind Chaturvedi said...

@सभी मतदाताओं का आभार्. नतीज़े भी आप देख ही रहे होंगे.
प्रयास निरंतर जारी रहेगा. मार्गदर्शन की अपेक्षा भी बनी रहेगी. कृपया अन्य विषयों का सुझाव भी दें,

@शब्दसृष्टि जी ,किसी भी सर्वेक्षण में गोपनीयता आवश्यक है. यदि नाम पता पूछा जाय तो अक्सर लोग सर्वेक्षणों में भाग नही लेते
( वहां 'से' भाग लेते हैं)

सभी का शुक्रिया. औरों को भी मतदान हेतु प्रेरित करें.