Thursday, August 18, 2011

अन्ना हज़ारे ने बनाया माहौल....

ये अन्धेरा अब पिघलना चाहिये
सूर्य बादल से निकलना चाहिये

कब तलक परहेज़ होगा शोर से
अब हमारे होँठ हिलना चाहिये

फुसफुसाहट का असर दिखता नहीँ
हमको अपना स्वर बदलना चाहिये

अब नहीँ काफी महज़ आलोचना
आग कलमोँ को उगलना चाहिये

ये नक़ाबेँ नोचने का वक़्त है
हाथ चेहरोँ तक पहुंचना चाहिये

वक़्त भी कम है हमारे हाथ से
अब न ये मौक़ा फिसलना चाहिये.

2 comments:

"जाटदेवता" संदीप पवाँर said...

अच्छी प्रस्तुति

Shashank Gupta said...

Good post. Thank you for making the effort to create this article it is extremely valuable!I’m looking forward to even more interesting articles from the side in your next post thanks a lots! I had seen superb info in this blog and you are using the great technology which is totally visible in this blog